Google+ Followers

Monday, October 23, 2017

काफी समय हुआ तुमसे मिले हुए

काफी दिन हुए तुमसे मिले हुए
कुछ बातें करनी थी
लबों से नहीं
आँखों से करनी थी।
फोन,पत्र में वो आनंद कहाँ
जो एक-दूजे के हाथों में हाथ रख
बोलने मुस्काने और
तुम्हारे शर्मा जाने में है।
तुम्हारे दिए हुए फूल
मैंने अब भी सहेज कर रखे हैं
एक पुस्तक में,माना सूख गए
पर ताज़गी अब भी वही है।
पता है भावनाओं का सैलाब है
जिसे मैंने रोक रखा है
हौले से पास आना
कहीं टूट न पड़ें ये।
पत्तों की सरसराहट
जैसे हवा से तुम्हारे दुप्पट्टे का सरकना
बेखौफ उड़ना हवा में
और तुम्हारा उसे पकड़ना।
आज जो मिलना होगा हवा जोरों की है
जो उड़ जाए दुप्पटा सूखे पत्ते की तरह
फिक्र मत करना
मैं उन्हें फिर से हरा कर दूँगा।
यादों की हरी टहनियाँ
आज शुष्क हो चली हैं
चिंगारी अभी भी सीने में है
आज चलो अलाव जलायेंगे।
थोड़ा समय लेकर आना
यादों की लकड़ियाँ ढेर सी हैं
सो अलाव देर तक जलेगी
और सिहर जाएगी हमारी रूह।
क्योंकि,काफी समय हुआ तुमसे मिले हुए
और बातें,बातें ढेर सी करनी है।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

No comments:

Post a Comment