Google+ Followers

Wednesday, February 27, 2013

दो-चार पैसों की व्यथा


                           
उस बासी रोटी का पहला ग्रास
ज्यों ही मैने मुँह मे डाला था
चिल्लाकर मालिक ने मेरे
तत्क्षण मुझको बुलवाया था/
                        कहा टोकरी भरी पड़ी है
                        और गाड़ी आने वाली है
                        लगता है ये भीड़ देखकर
                        आज अच्छी बिक्री होने वाली है/
करता है मन मेरा भी
खेलूँ मैं यारों के संग
पर है ये एक जटिल समस्या
'ग़रीबी' लड़ता जिससे मैं ये जंग/
                        पर है यकीन मुझको की
                        बापू जब भी आएँगे
                        दोनो हाथों मे दुनिया की 
                        खुशियाँ समेटे लाएँगे/
पर आज बरस बीते कई
ये सपने पाले हुए
बापू यहाँ होते तो देखते
मेरे पैर-हाँथ काले हुए/
                       बापू कमाने परदेस गये
                       माँ मुझसे बोला करती थी
                       पर जाने क्यूँ रात को वो
                       छुप-छुप रोया करती थी/
माँ,क्यूँ रोती है,बापू यहाँ नहीं तो क्या
मैं भी तो घर का मर्द हूँ
जब तक वो आते हैं तब-तक
मैं तुझे कमाकर देता हूँ/
                       अरे! नहीं पगले कहकर
                       वो और फफककर रोती थी
                       सिने से मुझको लगाकर
                       वो लोरी गाया करती थी/
अब चुकी गाड़ी यहाँ
अब मैं चढ़ने जाता हूँ
इन समोसों को बेचकर
दो-चार पैसे कमाता हूँ/
                       समोसा बेचने के खातिर
                       मैने हर डिब्बे पर चिल्लाया था
                       की तभी हुई अनहोनी ये ज़रा
                       मैं एक औरत से टकराया था/
बस ज़रा सा लग जाने पर ही
वो मुझपर झल्लाई थी
पर फ़र्क नहीं पड़ता मुझको
ये तो मेरे हर दिन की कमाई थी/
                      पर होना था कुछ और सही
                      जो आँख मेरी फड़फड़ाई थी
                      मेरे गालों पर पढ़ने वाली
                      वो उस औरत की कठोर कलाई थी/
पर क्या करता मैं लोगों
ने कहा आगे बढ़ जाने को
और कुछ नहीं था मेरे हाथो
बस इन आंशूओ को पोंछ पाने को/
                      दो कदम चल कर मैने
                      अगले डिब्बे पर कदम जमाया था
                      क्या? इस बच्चे के आंशू मोती नहीं
                      केवल उसका साया था/
पर व्यर्थ समय नहीं मुझको
माँ को क्या जवाब दूँगा
इससे अच्छा है की मैं
दो-चार पैसे कमा लूँगा/
                                         
Rate this posting:
{[['']]}

Monday, February 25, 2013

कुछ बात.....


                            
कुछ बात होंठ पर टीके रहे
कुछ घबराहट थी सो सिले रहे
होंठो पे रखे ये धीर-अधीर
बस स्वर-सुधा को तरस रहे/
                             भ्रमजाल-जाल ये यौवन का
                             ये कू-कू कोयल सी बोली
                             अगर यही मुहूर्त है मिलने का
                             तो क्यूँ ना हर दिन आए होली/
ये तेरे चेहरे की लालिमा
क्या कोई रंग भा पाएगा
पर बस एक स्पर्श के मोह मे
ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा/
                             धरती का ऐश्वर्य सना
                             तेरे इस कोमल तन मे
                             निहार सकूँ मई तुझको जिभर
                             चाह उठी बस इस दिल मे/
हंसते है वो लोग मुझपर
कहते जाने किससे बातें करता
बस बैठ अकेला कहीं भी मैं
दूर तलक तुझको तकता/
                             हौले-हौले ये जो बयार
                             मेरे सामने से गुजर जाती है
                             वैसी चंचलता तो मानो
                             केवल तुझ पर भाती है/
आभास होता है मुझको की
तूने आँचल लहराया होगा
ये हवा का झोंका बस
तुझको छू कर आया होगा/
                             आगे को मैं बढ़ा चला
                             पतवार संभाले जाने कोई
                             बिन मांझी ये नौका मेरी
                             ढूंढे तुझको या मंज़िल कोई/
जो पड़े कदम प्रेम-तट पर
भावों के कंकर संजोए
एहसास वो प्यारा गहरा होगा
जो दिल धड़के और आँखें रोए/
                             और लब से लब सील जाएँगे
                             आँखें ही सब कह जाएँगी
                             बातों की भाषा का औचित्य बस
                             वहीं ख़त्म हो जाएगा/
और बस एक स्पर्श के मोह में
ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा
और बस एक स्पर्श के मोह में
ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा/
Rate this posting:
{[['']]}