Google+ Followers

Friday, November 22, 2013

रजनी ! उसकी याद

कैसे कहूँ मैं ओ रजनी
उसकी याद कितना मुझे सताती है
जो  होता हूँ मैं तेरे संग
वो आँखों से बह जाती है/
                                          उसके आने के पहले
                                          मेरी गुलशन तुझसे रही
                                          और उसके आने पर भी
                                          तू ही तो बस पास रही /
मेरे सुने  उपवन में बजनेवाली उस पायल की
पहली झंकार कि तू ही तो साक्षी थी
मुझे मिली वो तेरी सौतन
 जिसकी तू अभिलाषी थी  /
                                          उस मधुर क्षण में साथ हमारे
                                          तेरा ही तो साया था
                                          रौशन हुई थी तू उस पल
                                         जो दिखा वो खूबसूरत साया था /
तूने सोचा होगा शायद
अब मैं तुझसे दूर हुआ
पर देख तेरे ही साये में
इस जोड़े को नूर मिला /
                                         याद है वो क्षण
                                         जो मैं उससे मिला था
                                         तू भी तो हरषाई थी
                                        और चाँद पूरा खिला था /
तू ऊपर से हमें देख रही थी                                  
जाने क्या खेल खेल रही थी
और नज़रें उनसे टकरायी थी
दुनिया स्थिर हमने पाई थी /
                                          मयस्सर मुझको वो हो
                                          बस केवल उसको पाना था
                                          इस प्रेम रूपी मदिरा का साकी
                                          वो पहला ही पैमाना था/
और धीरे-धीरे क्षण बीते थे
हम अक्सर ही मिल जाया करते थे
पहले तो ये संयोग हुआ
फिर मानो एक रोग हुआ /
                                         फिर वो पल भी आया था
                                         तेरा रूप सलोना पाया था
                                         मैं बातें उससे कह पाया था
                                         पाकर उसको मैं जी पाया था /
रजनी तू फिर रही पास
जो बँधा ये परिणय सूत्र खास
एक अध्याय नया फिर शुरू हुआ
मेरा सूनापन मनो दूर हुआ /
                                         खुशियों के कुछ ही पल बीते थे
                                         बरसात के शायद छींटे थे
                                         शायद उनको बेह जाना था
                                         हांथों से निकल फिर जाना था /
उस दिन तू बिलकुल काली थी
तू डरती जिससे वो वो लाली थी
दिल मेरा घबराया था
और अनहोनी का साया था /
                                         मैं जीवन से बिलकुल रूठा था
                                         मैं तो बिलकुल टुटा था
                                         और मानो एक ठेस मिला
                                         पर जीने को उद्देश्य मिला/
और उसकी निशानी मुझको जो
पापा कहके बुलाती है
वरना उसकी याद तो मुझको
हर एक क्षण तड़पाती है /
                                        और कैसे कहूं मैं ओ रजनी
                                        उसकी याद कितना मुझे तड़पाती है
                                        जो होता हूँ मैं तेरे संग 
                                        वो आँखों से बेह जाती है/

Rate this posting:
{[['']]}