Google+ Followers

Wednesday, October 11, 2017

मैं चुप था क्योंकि मैं लाचार था

मैं चुप था क्योंकि मैं लाचार था
वो भौंक रहा था क्योंकि हाँथों में तलवार था
आज समय बदल गया हमारा तो क्या कहें
वो जो हमें अय्यार कह रहा है ना,कभी हमारा ही यार था।

ज़िन्दगी को यूँ फुसला-फुसला कर चलाया था
चित्र-गूगल आभार 
उन्हें तरस भी न आई जो धूं-धूं कर बस्ती को जलाया था
पता है बड़े सुकून से रहते थे लोग यहाँ भी
फर्क तब पड़ा जब एक साधु एक मौलवी रहने आया था।

ये जो दो रुपए में आपका भविष्य बताते हैं मेलों में
उनसे पूछना क्या इसी दो रुपए से अपना भविष्य बनाया था
दुनिया में लोग तो आपको ठगने को आमद हैं दोस्तों
कभी किसी को हमने बनाया था,कभी किसी ने हमको बनाया था।

गुरेज उन्हें भी हमसे कम नहीं था
अपने दिल को हमने क्या कम जलाया था
हम तो बस इसी धोके में फँस गए ऐ दोस्त
सुना था कुछ बन गए कुछ को मोहब्बत ने बनाया था।

ये जो चार दीवारों से घिरा हुआ है घर है मेरा
इसे हमने यादों से रंगा और सपनों से सजाया था
ये जिसमें मैं रहता हूँ मकान है घर कहाँ है मेरा
घर वो है जहाँ माँ-बाप ने मुझे गिरते गिरते सँभलना सिखाया था।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

2 comments: