Google+ Followers

Wednesday, February 27, 2013

दो-चार पैसों की व्यथा


                           
उस बासी रोटी का पहला ग्रास
ज्यों ही मैने मुँह मे डाला था
चिल्लाकर मालिक ने मेरे
तत्क्षण मुझको बुलवाया था/
                        कहा टोकरी भरी पड़ी है
                        और गाड़ी आने वाली है
                        लगता है ये भीड़ देखकर
                        आज अच्छी बिक्री होने वाली है/
करता है मन मेरा भी
खेलूँ मैं यारों के संग
पर है ये एक जटिल समस्या
'ग़रीबी' लड़ता जिससे मैं ये जंग/
                        पर है यकीन मुझको की
                        बापू जब भी आएँगे
                        दोनो हाथों मे दुनिया की 
                        खुशियाँ समेटे लाएँगे/
पर आज बरस बीते कई
ये सपने पाले हुए
बापू यहाँ होते तो देखते
मेरे पैर-हाँथ काले हुए/
                       बापू कमाने परदेस गये
                       माँ मुझसे बोला करती थी
                       पर जाने क्यूँ रात को वो
                       छुप-छुप रोया करती थी/
माँ,क्यूँ रोती है,बापू यहाँ नहीं तो क्या
मैं भी तो घर का मर्द हूँ
जब तक वो आते हैं तब-तक
मैं तुझे कमाकर देता हूँ/
                       अरे! नहीं पगले कहकर
                       वो और फफककर रोती थी
                       सिने से मुझको लगाकर
                       वो लोरी गाया करती थी/
अब चुकी गाड़ी यहाँ
अब मैं चढ़ने जाता हूँ
इन समोसों को बेचकर
दो-चार पैसे कमाता हूँ/
                       समोसा बेचने के खातिर
                       मैने हर डिब्बे पर चिल्लाया था
                       की तभी हुई अनहोनी ये ज़रा
                       मैं एक औरत से टकराया था/
बस ज़रा सा लग जाने पर ही
वो मुझपर झल्लाई थी
पर फ़र्क नहीं पड़ता मुझको
ये तो मेरे हर दिन की कमाई थी/
                      पर होना था कुछ और सही
                      जो आँख मेरी फड़फड़ाई थी
                      मेरे गालों पर पढ़ने वाली
                      वो उस औरत की कठोर कलाई थी/
पर क्या करता मैं लोगों
ने कहा आगे बढ़ जाने को
और कुछ नहीं था मेरे हाथो
बस इन आंशूओ को पोंछ पाने को/
                      दो कदम चल कर मैने
                      अगले डिब्बे पर कदम जमाया था
                      क्या? इस बच्चे के आंशू मोती नहीं
                      केवल उसका साया था/
पर व्यर्थ समय नहीं मुझको
माँ को क्या जवाब दूँगा
इससे अच्छा है की मैं
दो-चार पैसे कमा लूँगा/
                                         
Rate this posting:
{[['']]}

7 comments:

  1. so emotional.. great work bro.. true and touchy..
    carry on and let the world know ab8 ur "hidden" talent

    ReplyDelete
  2. bhai kahan the av tak aap yar its amazing and u should let the world know about your talent best of luck dude

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks yaar & i m working on it.....:P

      Delete
  3. सच्‍चाई से
    सार्थक सन्देश देती रचना

    ReplyDelete
  4. Agonizing and Engrossing.... with the aid of great eloquence, shines a searing spotlight on street children lives....is as informative as it is impressive....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you for your appreciation.It feels wonderful.

      Delete