Google+ Followers

Wednesday, February 27, 2013

दो-चार पैसों की व्यथा


                           
उस बासी रोटी का पहला ग्रास
ज्यों ही मैने मुँह मे डाला था
चिल्लाकर मालिक ने मेरे
तत्क्षण मुझको बुलवाया था/
                        कहा टोकरी भरी पड़ी है
                        और गाड़ी आने वाली है
                        लगता है ये भीड़ देखकर
                        आज अच्छी बिक्री होने वाली है/
करता है मन मेरा भी
खेलूँ मैं यारों के संग
पर है ये एक जटिल समस्या
'ग़रीबी' लड़ता जिससे मैं ये जंग/
                        पर है यकीन मुझको की
                        बापू जब भी आएँगे
                        दोनो हाथों मे दुनिया की 
                        खुशियाँ समेटे लाएँगे/
पर आज बरस बीते कई
ये सपने पाले हुए
बापू यहाँ होते तो देखते
मेरे पैर-हाँथ काले हुए/
                       बापू कमाने परदेस गये
                       माँ मुझसे बोला करती थी
                       पर जाने क्यूँ रात को वो
                       छुप-छुप रोया करती थी/
माँ,क्यूँ रोती है,बापू यहाँ नहीं तो क्या
मैं भी तो घर का मर्द हूँ
जब तक वो आते हैं तब-तक
मैं तुझे कमाकर देता हूँ/
                       अरे! नहीं पगले कहकर
                       वो और फफककर रोती थी
                       सिने से मुझको लगाकर
                       वो लोरी गाया करती थी/
अब चुकी गाड़ी यहाँ
अब मैं चढ़ने जाता हूँ
इन समोसों को बेचकर
दो-चार पैसे कमाता हूँ/
                       समोसा बेचने के खातिर
                       मैने हर डिब्बे पर चिल्लाया था
                       की तभी हुई अनहोनी ये ज़रा
                       मैं एक औरत से टकराया था/
बस ज़रा सा लग जाने पर ही
वो मुझपर झल्लाई थी
पर फ़र्क नहीं पड़ता मुझको
ये तो मेरे हर दिन की कमाई थी/
                      पर होना था कुछ और सही
                      जो आँख मेरी फड़फड़ाई थी
                      मेरे गालों पर पढ़ने वाली
                      वो उस औरत की कठोर कलाई थी/
पर क्या करता मैं लोगों
ने कहा आगे बढ़ जाने को
और कुछ नहीं था मेरे हाथो
बस इन आंशूओ को पोंछ पाने को/
                      दो कदम चल कर मैने
                      अगले डिब्बे पर कदम जमाया था
                      क्या? इस बच्चे के आंशू मोती नहीं
                      केवल उसका साया था/
पर व्यर्थ समय नहीं मुझको
माँ को क्या जवाब दूँगा
इससे अच्छा है की मैं
दो-चार पैसे कमा लूँगा/
                                         
Rate this posting:
{[['']]}

7 comments:

  1. so emotional.. great work bro.. true and touchy..
    carry on and let the world know ab8 ur "hidden" talent

    ReplyDelete
  2. bhai kahan the av tak aap yar its amazing and u should let the world know about your talent best of luck dude

    ReplyDelete
  3. सच्‍चाई से
    सार्थक सन्देश देती रचना

    ReplyDelete
  4. Agonizing and Engrossing.... with the aid of great eloquence, shines a searing spotlight on street children lives....is as informative as it is impressive....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you for your appreciation.It feels wonderful.

      Delete