Google+ Followers

Thursday, July 12, 2018

जब मेरी बच्ची रोती है

आँखें मूँद इंसानियत जाने कहाँ सोती है
चित्र - गूगल आभार 
जीते जी मर जाता हूँ मैं जब मेरी बच्ची रोती है|
क्या कुछ नहीं बीता नाज़ुक सी उस जान पर
माँस के इस ढांचे में अब कहाँ वही बच्ची होती है।
छलनी-छलनी हो जाता जिगर मेरा,जब जिगर के टुकड़े से
कहाँ छुआ,कैसे हुआ ये तफ्तीश होती है।
कमाल है समाज,मुझे सोच पर तरस आता है
जुर्म करता है कोई और चेहरा मेरी बच्ची ढकती है।
हुजूम सा आया है सड़कों पर खबर है मुझे
अफ़सोस!ये सबकुछ हो जाने के बाद होती है।
हाल किसी ने न जाना,बस कौम पूछते रह गए
सियासत है जनाब,अफ़सोस ऐसी ही होती है।
गुरुर अब भी उतना हीं है,मुझे अपनी बच्ची पर
आदमी ही हूँ,कौम जिसकी बस एक पिता की होती है।
©युगेश

Rate this posting:
{[['']]}

Thursday, June 21, 2018

इच्छाएँ मन मझधार रहीं

इच्छाएँ मन मझधार रहीं
न इस पार रहीं न उस पार रहीं
उम्र बढ़ी जो ज़हमत में
नादानी हमसे लाचार रहीं
कुछ पाया और कुछ खोया
गिनती सारी बेकार रही
जेब टटोला तो भरे पाए
चित्र - गूगल आभार 
बस घड़ियाँ भागम-भाग रहीं
कदम बढ़े जो आगे तो
नज़रें पीछे क्यूँ ताक रहीं
एक गुल्लक यादों का छोड़ा था
स्मृतियाँ हाहाकार रहीं
वापस लौटा,गलियाँ घूमा
सब जाने क्यूँ चीत्कार रहीं
उस बूढ़े बरगद चाचा से
अब कहाँ वही पहचान रही
कहते लज्जत वही मिठाई की है
पर कहाँ वही चटकार रही
दरीचा जिसे देख दिल ये धड़का था
अब धड़कन कहाँ बस आवाज़ रही
चलते चलते जो उस ठौर रुका
देखा इमारत शायद वही रही
माँ ने खोला दरवाज़ा तो घर पाया
पग दौड़े,आँखें नीर से भरी रही
देखा तो पाया बस थी यहीं ठहरी
वो खुशियाँ जो बेहिसाब रहीं।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Tuesday, May 29, 2018

धीरे धीरे जो सुलगी

धीरे धीरे जो सुलगी वो आग हो गई
 चित्र - गूगल आभार 
हमने लिखने को जो उठाई कलम
वो आज किताब हो गयी
उनके जुल्फों की खुशबू में हम यूँ बहके
की जो अब तक न चढ़ी आज शराब हो गई।
आज आबशार जो देखा मैंने नदी के किनारे
उनकी जुल्फों से रिस कर रुकसार पर आते हुए
जुस्तजू का आलम ये हुआ
की खुदा से आज बगावत हो गयी
क्या कहूँ बस तब से उनकी इबादत हो गई।
कई बार उनकी मुस्कराहट के बारे में सोचा
जब भी सोचा चेहरे पर मुस्कान आ गयी
तारीफ़ करना हमने सीखा नहीं
दीदार-e-पाक क्या हुआ पन्नो पर स्याही आ गयी
वाह-वाही अपने ग़ज़लों की हमने पहले न सुनी
जिक्र जो उनका हुआ
अल्फ़ाज़ों में ताकत करिश्माई आ गयी।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Sunday, May 20, 2018

सवाल कुछ यूँ भी हैं जिंदगानी में

सवाल कुछ यूँ भी हैं जिंदगानी में
कि अश्क हैं भी और गिरते भी नहीं।
चित्र-गूगल आभार 
शरीर टूटता है उन कामगार बच्चों का
एक आत्मा थी जो टूटी है पर टूटती भी नहीं।
उस बच्ची का पुराना खिलौना
आज मैंने कचरा चुनने वाली बच्ची के पास देखा
पता है खिलौना टूटा है,पर इतना टूटा भी नहीं।
ठगे जाते हैं लोग अक्सर सत्ता-धारियों से
बौखलाहट है,पर शायद उतनी भी नहीं।
बड़ा आसान देखा है मैंने आरोप लगाना
कमिया कुछ मुझमें भी होंगी,गलती बस उसी की नहीं।
पिता को मैंने हमेशा थोड़ा कठोर सा देखा है
कभी जो अंदर झाँक के देखा,शायद इतने भी नहीं।
गुबार है गर दिल में तो निकल जाने दो
दर्द जो होगा तो एक बार होगा,पर उतना भी नहीं।
किसी की कामयाबी देखकर घबरा न जाना
जुनून को सुकून चाहिए,पर उतना भी नहीं।
भला जरूर करना लोगों का,बस खुश करने की कोशिश नहीं
दोस्त जरूर चाहिए सबको,पर उतने भी नहीं।
फकत दिल का रोना भी कोई रोना है यारों
गम और भी हैं ज़िंदगानी में,कम्बख्त बस यही तो नहीं।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Tuesday, May 8, 2018

अहं

धृतराष्ट्र आँखों से अंधा
पुत्र दुर्योधन अहं से अंधा था
उसकी नज़रों से देखा केशव ने
चित्र- गूगल आभार 
चारों ओर मैं ही मैं था।

जब भीम बड़े बलशाली से
बूढ़े वानर की पूँछ न उठ पाई
बड़ी सरलता से प्रभु ने
अहं को राह तब दिखलाई।

जैसे सुख और माया में
धूमिल होती एक रेखा है
वैसे मनुज और मंज़िल के बीच
मैंने अहं को आते देखा है।

जितनी जल्दी ये ज़िद छुटे
अहंकार का कार्य रहे,अहं छुटे
मनुज को भान स्वयं का होता है
सूर्य वही उदय तब होता है।
©युगेश

Rate this posting:
{[['']]}

Thursday, April 19, 2018

सिसकी

सिसकी जो निकली तो जान निकल गयी
हैरत तो तब हुई जब बच्ची बच्ची नहीं
हिन्दू और मुसलमान निकल गयी
कठुआ हो या उन्नाव
या कोई और जगह
माँ को तकलीफ तब हुई
जब बच्ची घर से परेशान निकल गयी
कहीं दुबक के बैठी थी वेदना
वेदना का चोला ओढ़े जब
राजनीति बेशुमार निकल गयी
निर्भया के आँसू अभी सूखे नहीं थे
इंसानियत बेसुध पड़ी रही मंदिर में
हैवानियत उससे होकर सरेआम निकल गयी
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Saturday, April 7, 2018

Black buck और भाई

Black buck को धराशायी कर
फिल्हाल भाईजान धराशायी हो गए
कुछ खुश हो गए
तो भाई के fans रूष्ट हो गए
आखिर भाई ने इतनों का भला किया
चित्र- गूगल आभार 
हिरण की आत्मा ने पुकार लगाई
तो साले मैंने किसका बुरा किया
सुना 20 साल हो गए
अब तो उसके पुनर्जन्म की बात होगी
अरे!आपने फिल्में नहीं देखी
उसे इंसाफ मिला नहीं
आत्मा उसकी जरूर भटकती होगी
कुछ बाबाओं से पता चला
वही जो जेलों में बंद हैं
अंदर हैं तो क्या
अभी भी उनमें काफी दम है
कि आत्मा हिरण की
आजकल जोधपुर जेल के चक्कर काटती है
डरी सहमी सी है
पता चला आगे अपील भी हो सकती है
और लाकर रखा कहाँ जोधपुर
रिहा होकर आ गए तो
अपना घर तो बगल में ही है
अरे यही राजस्थान
निकल लिए gun लेकर
और गन-गना दिए तब
इससे पहले वो पधारे मारे देश
बिरादरी वालों को मैं बोल दूँ
निकल लो बेटा परदेस।
©युगेश

Rate this posting:
{[['']]}