Google+ Followers

Monday, April 17, 2017

अंतर्द्वन्द

अंतर्द्वन्द जो सीने में बसा
औचित्य जीवन का मैं सोचता
यहाँ हर कोई मुझे पहचानता है
मैं पर खुद में खुद को ढूंढता

साँस चलती हर घड़ी
प्रश्न उतने ही फूटते
जो सपने बनते हैं फ़लक पर
धरा पर आकर टूटते

कुंठित होकर मन मेरा
चित्र-गूगल आभार 
मुझसे है आकर पूछता
जिसने देखे सपने वो कौन था
और कौन तू है ये बता

रो-रो कर मुझसे बोलती है
मानव की ये त्रासदी
वो बनना चाहता है कुछ
और बन निकलता और कोई

कौतुहल विचारों में
एक सैलाब जिसे मैं रोकता
जो हारता न किसी और से है
वो बस स्वयँ से हारता

मझधार में कश्ती हमारी
एक सवाल हमसे पूछती
इस ठौर चलूँ उस ठौर चलूँ
मन को हमारे टटोलती

विचार कर जो एक तो
आज या कल मंज़िल को मैं पाऊँगा
वरना यही मझधार है,कस्ती यही है
शायद अनचाही मंज़िल यही
कल मैं औरों को,खुद को
बस कोसता ही जाऊँगा/
Rate this posting:
{[['']]}