Google+ Followers

Thursday, March 14, 2013

महँगाई और होली


                                 मत पूछो ये कैसी उमंग
                                 ये कैसी चेहरे की लाली
                                 अपने रंगो में रंगने को
                                 देखो फिर आई होली मतवाली/
जी,हाँ / अब कुछ ही दीनो में होली आ जाएगी,पर इस बार की होली हर बार की तरह ना होगी आखिर महँगाई जो इतनी  बढ़ गयी है / सो मैने होली को आम आदमी से जोड़ कर देखा /एक  सच्चे आम आदमी की होली दो मोहनों के बीच मे फँस गयी है / पहला ब्रज के मोहन और दूसरा मनमोहन / भई!महँगाई का हाल ये है की बज़ट में बस होली का होल रह गया है /ई मनमोहन अपने ब्रज ले गये हैं और सोनिया जी को सुपुर्द कर दिया है / तो इस पर लिखने से मैं खुद को रोक ना पाया तो ऐसी हालत है आम आदमी की इस होली में ------
                             महँगाई और होली
घर पर यूँ बैठे-बैठे मैने
ज्यों ही मेज़ पर हाथ फिराया था
मुझे मिली वो निमंत्रण पत्रि
जो पिछले वर्ष मैने होली मे छपवाया था/
                                 उस डेढ़ हज़ार के बोनस पर ही
                                 मैने खुद को . राजा सा पाया था
                                 घर मे थी होली-मिलन,और श्रीमति ने
                                 मुझे अच्छे से लुटवाया था/
होली के उपरांत भी मेरी हालत
बिल्कुल  . राजा ही जैसी थी
होली के पहले AC और
और उसके बाद ऐसी की तैसी थी/
                                 जब-जब चाहा उनलोगों ने
                                 तब-तब डटकर खाया था
                                 जबकि उनको था मालूम मुझपर
                                 बनिए का बकाया था/
दिखावे के उस पंख से
मैने भी खुद को सहलाया था
पर अब बटुवा साथ ना देता
मैने श्रीमति को समझाया था/
                                 मेरी प्रियतमा भी बिल्कुल
                                 ममताजी से कम नहीं
                                 मैने कहा प्राणप्रिए गुस्सा करना
                                 शायद पत्नी-धर्म नहीं/
धर्म-कर्म मुझे ना समझाओ
क्या तुमको इसका मर्म नहीं
अरे! पत्नी को खुश रखना
क्या पति का धर्म नहीं/
                                घर पर थी भीषण लहरी
                                बाहर महँगाई का ज़ाडा था
                                शादी से पहली उसकी खूबसूरती
                                अब उसके तर्क-वितर्क से हरा था/
बाज़ार जाकर मैने जो
बज़ट का हाल पाया था
सच कहता हूँ होली का वो लाल रंग
मेरी आँखों मे उतर आया था/
                                अगर यही रही महँगाई तो
                                प्रभु! मैं भी तेरी शरण मे आऊँगा
                                छोड़ इस मोह-माया को देखना
                                मैं भी सन्यासी बन जाऊँगा/

                                                                              
Rate this posting:
{[['']]}

Saturday, March 9, 2013

सच्चाई या माया


है ओत-प्रोत ये मन मेरा
कितनी सुंदर तेरी काया
हुआ अच्छम्भित मन मेरा
तू सच्चाई या कोई माया
                     नशें में हूँ पर मत समझ
                     ये नशा है उस प्याले का
                     उसका असर हम पे क्या हो
                     जो दीवाना महखाने का
ये नशा तो है तेरा प्रिये
जिसने ये जादू कर डाला
थी छुईमुई शरमाई तू   
जो डाली मैने बैयाँमला
                     बात ये मैने मानी थी
                     पर टूट गया मेरा वादा
                     हुआ असर था तुझ पर भी
                     पर हुआ नशा मुझको ज़्यादा
मधुर नशीला था वह क्षण
तू समाई मेरे आलिंगन मे
एहसास हुआ था कण-कण
पुस्प खिले हृदय आँगन मे
                      उस दूर क्षितिज तक मैने
                      खुद को अकेला पाया था
                      जो क्षीर हुआ मेरे जिस्म से
                      वो तेरा कोमल साया था
पर देख मैं जीता हूँ
की तू कल फिर मिलने आएगी
देख रुधिर से मेरे ही
माँग तेरी सज पाएगी
                      कहने दो जो कहता है
                      रोष नहीं उससे कोई
                      वो बेचारा क्या जाने
                      प्यार से सच्चा है कोई
हुआ कण-कण मेरा तेरा
ये बोल नहीं सच्चाई है
है खुदा गवाह मेरा जब
जब तेरी माँग सजाई है
                      हुआ सरस जीवन मेरा
                      ये साथ जो सच्चा पाया है
                      है अच्छंभित मन मेरा
                      तू सच्चाई या माया है 
Rate this posting:
{[['']]}

Wednesday, March 6, 2013

माँ



विरह होकर इस जग से 
आज कक्ष मे अपने बैठा हूँ
भोग-विलास के साधन पास है मेरे
पर माँ क्यूँ मैं तेरे आँचल को रोता हूँ
                                 गिरता,संभलता,बुदबुदाता
                                 मैं आगे को बढ़ता जाता था
                                 माँ तेरे साए मे आकर 
                                 चैन मुझे मिल पाता था/
माँ मैं जो कुछ भी कहता
शायद ही कोई समझता था
जाने क्या शक्ति पाई थी तूने 
जो मैं बिन बोले कह पता था/
                                 माँ आज मैं बोलने मे सक्षम हूँ
                                 पर क्यूँ खुद को व्यक्त कर पाया हूँ
                                 माँ तूने तो मुझे बिन बोले समझा पर
                                 बोल-बोलकर भी मैं जग को समझा पाया हूँ/
जब सारी दुनिया लड़ती थी 
और विषम परिस्तिथि लगती थी 
माँ आँचल मे अपने लेकर
तू मेरी सखी बन जाती थी/
                                 दुनिया आज भी मुझसे लड़ती है
                                 पर क्यूँ प्रतिरोध करने को जी नही करता है
                                 यूँ तो दोस्त हैं आज कई मेरे 
                                 पर शायद ही कोई तुझसी सखी बन पता है/
मैं चलने की कोशिश करता था
पर हर कदम पर लड़खड़ाता था
बस तेरी ही उंगली थामकर मैं
आगे को बढ़ पता था/
                                 माँ आज मैं चल रहा हूँ
                                 या शायद भाग रहा हूँ 
                                 पऱ क्यूँ आज फिर लड़खड़ाने को जी चाहता है
                                 क्यूँ तेरी उँगली फिर थमने को जी चाहता है/
याद है मुझको माँ 
जब तू खीर बनाती थी
ज़िद करता था मैं    
तू अपनी थाल बढ़ाती थी/
                                  भूख नहीं मुझको बेटा 
                                  कहके तू मुस्काती थी
                                  सोच-सोच के मैं हारा था 
                                  ये भूख तूने क्या पाई थी/          
आज पड़े हैं छप्पन-भोग यहाँ
पर क्यूँ खाने को जी नहीं करता है
माँ तेरे बच्चे ने ज़िद करना छोड़ दिया 
क्योंकि कोई अपनी थाल नहीं बढ़ाता है/
                                  माँ मैं तुझसे भागा करता था
                                  मैं तुझसे रूठा करता था 
                                  जो तू बढ़ती थी आगे
                                  लगाने को मेरे माथे पर वो काजल/
पर क्यूँ आज कमी खल रही मुझको 
जो ओझल होता माथे का वो काजल
माँ शायद पतझड़ ये दुनिया सारी 
माँ सावन तेरा आँचल    
                                  तेरी हर वो बात माँ
                                  आज प्रत्यक्ष सी प्रतीत होती है
                                  हाथों मे है गुलाब पर
                                  काँटों से टीस सी होती है
तेरी उन बातों का आशय माँ
आज समझ मे आया है
माँ तेरे आँचल से बढ़कर
क्या जग मे दूसरा कोई साया है
                                  मेरे हर सुख से तेरी खुशी थी 
                                  मेरे हर गम से तेरी नाराज़गी थी
                                  मुझको शीतल करने को तेरी परछाई थी
                                  तेरी दुनिया मुझमे ही समाई थी
मैं हंसता था,तू भी हँसती थी
मैं रोता था,तू भी समझाती थी
माँ आज मैं हंसता हूँ,क्या तू भी हँसती है
माँ आज मैं रोता हूँ,क्या तू भी  रोती है
Rate this posting:
{[['']]}