Google+ Followers

Thursday, March 31, 2016

सोच दुरुस्त रखो


"भारत की एक खासियत रही है/जो है अनेकता में एकता/"unity in diversity" एक सोच जो हमें औरों से अलग करती है/ये बात हमे खुश रखती है/पर ये बात कुछ लोगों को खटकती भी है/अगर लोग एक रहे तो उनका जीवन यापन चले कैसे/ऐसे में जरुरत है अपनी अक्ल को इस्तेमाल करने की/आखिर कौन अपना है और कौन मतलब साधने को अपना बन हमारे आपसी भाईचारे को नुक्सान पहुँचाना चाहता है ये बात समझने और परखने की ज़रूरत है/इसलिए जरा सोच दुरुस्त रखिए............"


न योगी को सुना न ओवैसी को
मुझे और भी काम हैं
फ़िज़ूल वक़्त किसको
वो बोलते हैं
या बस बोल देते हैं
जीवन यापन कैसे चले 
चलो जेहर घोल देते हैं
हम भी तो जनता हैं
मासूम से भोले-भाले
जिस पडोसी की मीठी सेवइयां चखी
जिस पडोसी के मीठे लड्डू चखे
वो फिर मुह खोल देते हैं
और हम भाईचारे को तौल देते हैं
थोडा रोष जरूर है लोगों से 
उनसे नहीं अपने लोगों से
एक अपील है सबसे
विचार कीजिये तब व्यवहार कीजिये
याद है कभी अंग्रेज़ आये थे
मालूम होता है की
ये कुछ नस्लें उनसे प्रभावित हैं
सोच अपनी दुरुस्त रखो
वो बोलते ही रहेंगे
तुम अपनी बात रखो
अरे इतने साल से पडोसी थे
अखलक को न समझ पाये
और वो जिन्हें जानते भी नही
उन्हें अपना रहनुमा मत समझो
बड़ी पुरानी सभ्यता है हमारी
फ़िज़ा में रंग सदभाव का रहा हैं
हमें तो गुलाब की तरह महकने की आदत है
काँटों से भला कौन डरा है/
Rate this posting:
{[['']]}