Google+ Followers

Saturday, March 8, 2014

दोस्ती या मतलब

कह उठा कबीर कि परख दोस्ती की
दुख की घडी बतलाती है/
जो परछाई है तो साथ चलेगा
वरना ओझल सी हो जाती है/
जीवन के इस पथ पर
कुछ ऐसा भी हो जाता है/
जिसके साथ हम आगे बढ़ते
वो मोड़ नया बन जाता है/
बड़ी मुश्किल से बिखरा मन
धीरे-धीरे खुद को समेटता है/
प्रश्न पूछ कर केवल खुद से
हर बार बिखर  वो जाता है/
पर बिखर कर मन मेरा
खुद को बस ये समझाता है/
"कि मैं कल भी वही था
मैं आज भी वही हूँ /
फर्क केवल बस नज़रिये का था
बड़ी गाढ़ी दोस्ती मानी थी मैंने
पर फर्क केवल सोच का था/
बस इतनी सी भूल हुई मुझसे
मैं दोस्ती बुनता रहा
वह मतलब ढूंढ़ता रहा /"
जो समझ गया बात ये इतनी
देखो ! कितना हल्का लगता है /
असल में वह साथ नहीं
जो मतलब ढूंढा करता है /
Rate this posting:
{[['']]}

10 comments:

  1. Wonderful bhaia !! bahut simple and direct hai !!

    ReplyDelete
  2. "कि मैं कल भी वही था
    मैं आज भी वही हूँ /

    ..गजब के जज्‍बात।
    बेहतरीन... बेमिसाल.... लाजवाब...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद........ :)

      Delete