Google+ Followers

Friday, November 22, 2013

रजनी ! उसकी याद

कैसे कहूँ मैं ओ रजनी
उसकी याद कितना मुझे सताती है
जो  होता हूँ मैं तेरे संग
वो आँखों से बह जाती है/
                                          उसके आने के पहले
                                          मेरी गुलशन तुझसे रही
                                          और उसके आने पर भी
                                          तू ही तो बस पास रही /
मेरे सुने  उपवन में बजनेवाली उस पायल की
पहली झंकार कि तू ही तो साक्षी थी
मुझे मिली वो तेरी सौतन
 जिसकी तू अभिलाषी थी  /
                                          उस मधुर क्षण में साथ हमारे
                                          तेरा ही तो साया था
                                          रौशन हुई थी तू उस पल
                                         जो दिखा वो खूबसूरत साया था /
तूने सोचा होगा शायद
अब मैं तुझसे दूर हुआ
पर देख तेरे ही साये में
इस जोड़े को नूर मिला /
                                         याद है वो क्षण
                                         जो मैं उससे मिला था
                                         तू भी तो हरषाई थी
                                        और चाँद पूरा खिला था /
तू ऊपर से हमें देख रही थी                                  
जाने क्या खेल खेल रही थी
और नज़रें उनसे टकरायी थी
दुनिया स्थिर हमने पाई थी /
                                          मयस्सर मुझको वो हो
                                          बस केवल उसको पाना था
                                          इस प्रेम रूपी मदिरा का साकी
                                          वो पहला ही पैमाना था/
और धीरे-धीरे क्षण बीते थे
हम अक्सर ही मिल जाया करते थे
पहले तो ये संयोग हुआ
फिर मानो एक रोग हुआ /
                                         फिर वो पल भी आया था
                                         तेरा रूप सलोना पाया था
                                         मैं बातें उससे कह पाया था
                                         पाकर उसको मैं जी पाया था /
रजनी तू फिर रही पास
जो बँधा ये परिणय सूत्र खास
एक अध्याय नया फिर शुरू हुआ
मेरा सूनापन मनो दूर हुआ /
                                         खुशियों के कुछ ही पल बीते थे
                                         बरसात के शायद छींटे थे
                                         शायद उनको बेह जाना था
                                         हांथों से निकल फिर जाना था /
उस दिन तू बिलकुल काली थी
तू डरती जिससे वो वो लाली थी
दिल मेरा घबराया था
और अनहोनी का साया था /
                                         मैं जीवन से बिलकुल रूठा था
                                         मैं तो बिलकुल टुटा था
                                         और मानो एक ठेस मिला
                                         पर जीने को उद्देश्य मिला/
और उसकी निशानी मुझको जो
पापा कहके बुलाती है
वरना उसकी याद तो मुझको
हर एक क्षण तड़पाती है /
                                        और कैसे कहूं मैं ओ रजनी
                                        उसकी याद कितना मुझे तड़पाती है
                                        जो होता हूँ मैं तेरे संग 
                                        वो आँखों से बेह जाती है/

Rate this posting:
{[['']]}

11 comments:

  1. mast bhai a great source of inspiration to us hats off continue ur work with huge enthusiasm..... nice piece of poetry

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, आपको भी नववर्ष की शुभकामनायें /

      Delete
  3. वाह।। बहुत सुंदर...

    ReplyDelete