Google+ Followers

Thursday, March 14, 2013

महँगाई और होली


                                 मत पूछो ये कैसी उमंग
                                 ये कैसी चेहरे की लाली
                                 अपने रंगो में रंगने को
                                 देखो फिर आई होली मतवाली/
जी,हाँ / अब कुछ ही दीनो में होली आ जाएगी,पर इस बार की होली हर बार की तरह ना होगी आखिर महँगाई जो इतनी  बढ़ गयी है / सो मैने होली को आम आदमी से जोड़ कर देखा /एक  सच्चे आम आदमी की होली दो मोहनों के बीच मे फँस गयी है / पहला ब्रज के मोहन और दूसरा मनमोहन / भई!महँगाई का हाल ये है की बज़ट में बस होली का होल रह गया है /ई मनमोहन अपने ब्रज ले गये हैं और सोनिया जी को सुपुर्द कर दिया है / तो इस पर लिखने से मैं खुद को रोक ना पाया तो ऐसी हालत है आम आदमी की इस होली में ------
                             महँगाई और होली
घर पर यूँ बैठे-बैठे मैने
ज्यों ही मेज़ पर हाथ फिराया था
मुझे मिली वो निमंत्रण पत्रि
जो पिछले वर्ष मैने होली मे छपवाया था/
                                 उस डेढ़ हज़ार के बोनस पर ही
                                 मैने खुद को . राजा सा पाया था
                                 घर मे थी होली-मिलन,और श्रीमति ने
                                 मुझे अच्छे से लुटवाया था/
होली के उपरांत भी मेरी हालत
बिल्कुल  . राजा ही जैसी थी
होली के पहले AC और
और उसके बाद ऐसी की तैसी थी/
                                 जब-जब चाहा उनलोगों ने
                                 तब-तब डटकर खाया था
                                 जबकि उनको था मालूम मुझपर
                                 बनिए का बकाया था/
दिखावे के उस पंख से
मैने भी खुद को सहलाया था
पर अब बटुवा साथ ना देता
मैने श्रीमति को समझाया था/
                                 मेरी प्रियतमा भी बिल्कुल
                                 ममताजी से कम नहीं
                                 मैने कहा प्राणप्रिए गुस्सा करना
                                 शायद पत्नी-धर्म नहीं/
धर्म-कर्म मुझे ना समझाओ
क्या तुमको इसका मर्म नहीं
अरे! पत्नी को खुश रखना
क्या पति का धर्म नहीं/
                                घर पर थी भीषण लहरी
                                बाहर महँगाई का ज़ाडा था
                                शादी से पहली उसकी खूबसूरती
                                अब उसके तर्क-वितर्क से हरा था/
बाज़ार जाकर मैने जो
बज़ट का हाल पाया था
सच कहता हूँ होली का वो लाल रंग
मेरी आँखों मे उतर आया था/
                                अगर यही रही महँगाई तो
                                प्रभु! मैं भी तेरी शरण मे आऊँगा
                                छोड़ इस मोह-माया को देखना
                                मैं भी सन्यासी बन जाऊँगा/

                                                                              
Rate this posting:
{[['']]}

5 comments:

  1. :-)

    अरे सन्यासी क्यूँ बनना....ज्यादा कमाओ...
    शुभकामनाएं..
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी,बस पढ़ाई पूरी कर उसी दिशा मे बढ़ जाना है.......:p

      Delete
  2. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं संजय भास्कर हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut bahut sukriya......mujh naye blogger k liye aapki baatein kafi utsah vardhan krne wali hain.....dhanyawad

      Delete
  3. कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
    शब्दों की मुस्कुराहट पर …..मैं अकेला चलता हूँ

    ReplyDelete