Google+ Followers

Saturday, December 16, 2017

वो गुजर गए ,हम ठहर गए

जरा वो गुजर गए
हम ठहर गए
जो पहर गए
अरे कहर गए
जो झपकी पलकें
कुछ कह वो गए
उद्वेलित था दिल
आभास हुआ
 चित्र - गूगल आभार 
कुछ लहर गए
जो अलके थे चेहरे पर
आहिस्ता थे वो ठहर गए
एक बोसा हवा का यूँ आया
क्या कहूँ गज़ब वो मचल गए
नक्स था कुछ यूँ उनका
जमीं मचल गयी
हम ठहर गए
रोक सके जो सूरज को
जुल्फें जो बिखरी
तो देखा हमने सहर गए
हल्की उनकी अंगड़ाई को
कमर जो उनकी बलखाई तो
हवा का झोंका तो आता था
देखा हमने रुख बदल गए
तेरे यौवन की चित्कारी को
ये पायल की झनकारी को
कुछ मचल गए
कुछ अकड़ गए
चेहरे पर रंजित होती आभा को
देख कर भानु ठहर गए
तेरे मुख की सुरभित वाणी को
जिन्हें बस सुनना था
सब बेहक गए
फिर सोच सोच जो पल बिता था
वो आभा-मंडल जो जीता था
फिर जो कुछ पहर गए
क्या कहूँ मित्र,क्या कहर गए।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

No comments:

Post a Comment