Google+ Followers

Tuesday, August 22, 2017

खर्राटे


सुनने में जितना भी अजीब लगे पर हाँ ये कविता खर्राटों पर है/खर्राटे जो आप भी लेते हैं हम भी लेते हैं/हाँ पर जब खर्राटों की ध्वनि जब चाहकर अनसुनी न रह जाये यानि की शोर प्रचंड हो तो वो व्यक्ति रोगी कहलाता है और उसके बगल वाला भुक्तभोगी /ऐसी स्तिथि में आप भी कभी न कभी जरूर रहे होंगे.................

प्रकाळ है प्रचंड है
जो छेड़ता मुझको सदा
अजब सा ये द्वन्द है
जिसने उडा दिया नींदों को मेरी
ख्याति जिसकी आबाद है
चित्र-गूगल आभार 
वो कोई मेरी प्रियतमा नहीं
बल्कि तेरी नाक का शंखनाद है
मैं खुश हूँ तेरे बात पर
सृष्टि के इस आधार पर
बस एक पीड़ा रही
कौन रात छोड़ जाता
ढोल तेरे नाक पर
धडम-धडम करता है जो
रात तांडव मैं करता अहो
चीर तेरी नींद को
अरे! देखो जरा इस दीन को
बिन नींद आँखें लाल हैं
तुझे आभास क्या मेरा हाल है
लोग पूछते मुझसे सदा
ये हाल तूने क्या रखा
कैसे बताऊँ दुख की घड़ी
मेरी नींद पर जो आ पड़ी
न जगता हुँ,न सोता हूँ मैं
बस रात भर रोता हूँ मैं
देख मेरा घोर क्रन्दन
शान्त हो,लोग करते वन्दन
नज़र मेरी रुई पर पड़ी
कानों में ठूँस ले निशाचरी
फिर नींद मीठी आएगी
भले,ढोल तान तीखी गाएगी।
©युगेश


Rate this posting:
{[['']]}

2 comments: