Google+ Followers

Monday, February 25, 2013

कुछ बात.....


                            
कुछ बात होंठ पर टीके रहे
कुछ घबराहट थी सो सिले रहे
होंठो पे रखे ये धीर-अधीर
बस स्वर-सुधा को तरस रहे/
                             भ्रमजाल-जाल ये यौवन का
                             ये कू-कू कोयल सी बोली
                             अगर यही मुहूर्त है मिलने का
                             तो क्यूँ ना हर दिन आए होली/
ये तेरे चेहरे की लालिमा
क्या कोई रंग भा पाएगा
पर बस एक स्पर्श के मोह मे
ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा/
                             धरती का ऐश्वर्य सना
                             तेरे इस कोमल तन मे
                             निहार सकूँ मई तुझको जिभर
                             चाह उठी बस इस दिल मे/
हंसते है वो लोग मुझपर
कहते जाने किससे बातें करता
बस बैठ अकेला कहीं भी मैं
दूर तलक तुझको तकता/
                             हौले-हौले ये जो बयार
                             मेरे सामने से गुजर जाती है
                             वैसी चंचलता तो मानो
                             केवल तुझ पर भाती है/
आभास होता है मुझको की
तूने आँचल लहराया होगा
ये हवा का झोंका बस
तुझको छू कर आया होगा/
                             आगे को मैं बढ़ा चला
                             पतवार संभाले जाने कोई
                             बिन मांझी ये नौका मेरी
                             ढूंढे तुझको या मंज़िल कोई/
जो पड़े कदम प्रेम-तट पर
भावों के कंकर संजोए
एहसास वो प्यारा गहरा होगा
जो दिल धड़के और आँखें रोए/
                             और लब से लब सील जाएँगे
                             आँखें ही सब कह जाएँगी
                             बातों की भाषा का औचित्य बस
                             वहीं ख़त्म हो जाएगा/
और बस एक स्पर्श के मोह में
ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा
और बस एक स्पर्श के मोह में
ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा/
Rate this posting:
{[['']]}

1 comment:

  1. और बस एक स्पर्श के मोह में
    ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा
    और बस एक स्पर्श के मोह में
    ये हस्त स्वयं बढ़ जाएगा/
    ........................बेहतरीन रचना देने के लिए आभार

    ReplyDelete